GREAT OFFER... CLICK ON THE PIC AND GET IT...

Sunday, 6 May 2018

Shri Biharin Dev - Rasik Saint of Vrindavan


Shri Biharin Dev Ji was the son of Shri Mitrasen who was a devotee of Swami Shri Haridas. Swami Sri Haridas Ji named his son 'Bihari Das'. Mitra Sen was a 'Surdhavaj Brahmin'. After the demise of his father, Shri Bihari Das was appointed in the Government Service. But his mind was not in peace during his service. Soon after the last rites, of his father, his innate devotion prevailed and his mind became tired of worldly affairs and he dreamt of surrendering his life to Radha Krishn and doing devotion at Vrindavan in complete detachment. He kept on thinking about residing in Vrindavan. He writes as:


"बसी वृंदावन उत्तम ठाऊँ, सत्संगति परमारथ पाऊं |
नित दंपति संपत्ति दिखाऊं, श्री बिहारिनिदासी भई गुन गाऊं ||"



Bihari Das Ji continued working as a state employee till the age of 33. It is said that afterward he went to Vrindavan and surrendered at the feet of Swami Shri Haridas Ji (Lalita Sakhi Avtar) and Swamiji gave him all rights to his divine property and also the name 'Bihari Das'.


He took guidance from Swami Shree Vitthal Vipul Dev Ji and started a new journey of detachment from the world and chanting the glories of Radha Krishn. He used to perform Bhajan and Chant Glories at Nidhivan. His dream of residing in Vrindavan and performing constant devotion finally came true.


He gave up all his worldly desires. With the grace of the dust of Vrindavan, his mind got a very deep attachment in the feet of Shri Radharani and finally, he never looked back to the world.
It was as if his heart was drenched in Shree Radharani’s (swaminiji’s) seva, where he writes in his poems:



“ मेरे विषै विसन वर वाम, तन गोरी मन भोरी नवल किशोरी राधा नाम |
निस बासर जागत सोवत चितवत अंग अंग अभिराम |
अंजन मंजन करात परम रूचि चोप चौगुनी काम ||
ताकि हिलगी तजै मैं अपने कर्म धर्म धन धाम |
दई पीठि सब जगतें लगतें पायो बन विश्राम || "



As soon as he took Shelter in the feet of Shri Radharani, by residing in Vrindavan and giving up the material desires, His fickle mind has finally got the ultimate rest and relief.


He became totally dependent upon Brajwasis (residents of Braj) for food. This way he started living renounced life by begging food from them. He described it as:
"रुचे मोहि ब्रजवासिन के टूक"



He has expressed his unique loyalty to Braj Dham and Brajwasis. In one pada, he has not hesitated to tell himself the pet of Brajwasis.
"हौं ब्रजवासिन कौ पाल्यो पीला "



Now with the passing time, He became totally lost in the Nitya Vihar Ras. There is a very famous incidence related to his life. Once, while going for a bath in the Yamuna, he had dantun (brush) in his mouth. He remained standing on the road for three days, remained absorbed in divine bliss singing a certain verse:
“Viharat Laal - Viharin Dou - Shri Yamuna Ji ke Teere"
(Yugal Sarkar (Radha & Krishna) are performing leelas and are passing at the bank of Yamuna).

After eating Prasad of Bihariji, he gained back consciousness. It is said that after this incidence, He gave up the Prakat (physical) Bihariji Sewa and remain absorbed in Mansik (Mind) Sewa.


He writes this way saying, some get intoxicated with drugs, but Biharin Das is always intoxicated in the divine bliss of Shree Shyama Shyam.
"कोऊ मदमाते भांग के, कोउ अमल अफीम,
श्री बिहारीदास रसमाधुरी, मत्त मुदित तोफीम”



After few days, Swami Sri Haridas Ji entered Nikunj Leela, 7 days after his departure, Vithal Vipul Dev Ji also entered Nikunja. After that Viharin Dev Ji became the Acharya. Shri Biharin Dev Ji remained Acharya of the sect for a long time.


His compositions are very different for a normal sadhak’s (spiritual aspirant) understanding. He was indulged in this pure happiness where the seeker and the master are so united that now the master considers his seekers equal to himself or rather higher than himself, and, seeker keeps on giving selflessly without actually seeking anything from his master. Because of his continuous thought for his master’s happiness alone, he seeks blessings for his master's happiness only. That is how he narrates in his padas related to Shyama Shyam. Therefore He gives blessings to the pair of Radha Krishn. 


"देत आसीस विहारिनि दासी करहुं नवल नित रलियां “


He even says, due to his immense love for Kishori Ji, Shri Radharani, he doesn’t mind Bihariji, which he describes in the lines:


"किये रहै ऐंड बिहारी हूँ सौं, हम बेपरवाह विहारिनि के “
This says as Since we belong to Shri Radha, So we are fearless from everyone including Shri Krishn. 



Swami Shri Biharin Dev Ji entered Nikunja around 1670. His samadhi is still in Nidhivan. In his disciple tradition, Swami Shri Nagaridas Ji and Shri Saras Das were his main followers.

Tuesday, 3 April 2018

प्रेम मंदिर - A short view






भगवान श्रीकृष्ण की क्रीड़ास्थली श्रीवृंदावनधाम स्थित प्रेम मंदिर अत्यंत भव्य धार्मिक एवं आध्यात्मिक परिसर है। इसका उद्घाटन 15-17 फरवरी, 2012 को गोलोकवासी जगद्गुरु कृपालु जी महाराज के कर-कमलों द्वारा संपन्न हुआ था। लगभग 30,000 टन इटैलियन संगमरमरों और विशेष कूका रोबोटिक मशीनों द्वारा नक्काशीकृत इस भव्य मंदिर के अधिष्ठात्र भगवान श्रीकृष्ण एवं अधिष्ठात्री देवी राधारानी हैं। लगभग 50 एकड़ भूमि में बना यह अद्वितीय मंदिर मनोरम बगीचों एवं फव्वारों से घिरा है, जहां शाम के वक्त लाइटिंग देखने का अहसास अत्यंत अद्भुत है। 1008 ब्रजलीलाओं के साथ ही भारतवर्ष की प्राचीन समृद्ध इतिहास को अत्यंत खूबसूरती के साथ उकेरा गया है। मंदिर के सामने लगभग 73,000 वर्ग फीट, मीनार-रहित तथा गुंबदनुमा बने यहां के सत्संग हॉल में लगभग 25,000 लोग एक साथ जमा हो सकते हैं।
श्रीवृंदावनधाम में आज से लगभग 5 हजार वर्ष पूर्व भगवान श्रीकृष्ण और राधारानीजी ने अधिकारी जीवों को महारास का रस प्रदान किया था। उसी दिव्य रस को विश्व के पंचम मूल जगद्गुरुकृपालु जी महाराज ने प्रेम मंदिर के रूप में प्रकट कर दिया है। महाराज के अनुसार,श्रीमद्भागवत ग्रंथ ही वेदांत का भाष्य है। उसी श्रीमद्भागवत को प्रेम मंदिर के स्वरूप में संसार के समक्ष प्रस्तुत किया गया है। प्रेम मंदिर में प्रवेश करते ही हृदय आनंद से आह्लादित हो उठता है। प्रेम मंदिर की बाहरी दीवारों पर श्रीमद्भागवत के दशम स्कंध में वर्णित श्रीकृष्ण लीलाओं का जीवंत चित्रण मन को मोह लेता है। मंदिर के भूमितल की बाहरी दीवारों पर श्रीकृष्ण की मनमोहक ब्रजलीलाओं के दर्शन होते हैं। प्रथम तल की बाहरी दीवारों पर मथुरा एवं द्वारका की लीलाएं क्रमबद्ध रूप से चित्रित हैं। कुब्जा-उद्धार, कंस-वध, देवकी-वसुदेव की कारागृह से मुक्ति, सान्दीपनी मुनि के गुरुकुल में जाकर कृष्ण-बलराम का विद्याध्ययन, रुक्मिणी-हरण, सोलह हजार एक सौ आठ रानियों का वरण, नारद जी द्वारा श्रीकृष्ण की गृहस्थावस्था के
दर्शन, श्रीकृष्ण का अपने अश्रुओं द्वारा सुदामा के चरण पखारना, सुदामा एवं उनके परिवार का एक रात्रि में काया-पलट, कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्ण का गोपियों से पुनर्मिलन, रुक्मिणी आदि द्वारिका की रानियों का श्रीराधा एवं गोपियों के साथ मिलन, श्रीकृष्ण द्वारा उद्धव को अंतिम उपदेश एवं दर्शन तत्पश्चात स्वधाम-गमन आदि लीलाएं भी चित्रित की गई हैं। विशेष कर श्रीकृष्ण का राधाजी के चरणों में अपना मुकुट रखना एवं उनकी चरण सेवा करना आदि दृश्य प्रेम तत्व की प्रधानता का निरुपण कर प्रेम मंदिर के नाम को चरितार्थ करता है। वास्तव में वास्तुकला का बेजोड़ नमूना प्रेम मंदिर भक्ति एवं आस्था का वह अनोखा संगम है, जिसमें भक्ति और ईश्वरीय प्रेम की अलौकिक धारा प्रवाहित होती है। वहीं सुंदर हरे-भरे बगीचों से युक्त सायं के समय लाल, नीली, पीली और दूधिया रोशनी में चमचमाता प्रेम मंदिर अपनी खूबसूरती की एक अलग ही छटा बिखेरता है। यही कारण है कि महज 6 वर्षो में ही प्रेम मंदिर न केवल वृंदावन, बल्कि पूरे ब्रज क्षेत्र में नव-पर्यटन आकर्षण के रूप में स्थापित हो चुका है।

Wednesday, 28 March 2018

Shri Radha Madanmohana -Vrindavan



“After Lord Sri Krishna left this world, Maharaj Yudhishthira, unable to bear the separation from the Lord, also decided to leave the world. Before leaving, he coroneted Maharaj Parikshit as the emperor of the world, and the great grandson of Lord Sri Krishna, Vajranabh, as the king of Mathura.
Vajranabh was requested by the great devotees to restore the glories of Vrindavan. So Vajranabh decided to excavate those holy places of Vraja bhumi in which Lord Sri Krishna had performed His Lila, and to install beautiful and sacred deities in principal places of Vraja Dham. He sat on the banks of Yamuna under a Kalpavriksha (desire tree) and prayed to Sri Sri Radha and Krishna. By the auspicious mercy of that Kalpavriksha tree, Radha and Krishna’s mercy entered his heart and revealed to him the holy places of Sri Krishna’s Lila. Later when he decided to install Deities, he called Vishwakarma, the architect of the demigods. The three principal Deities carved by him were Radha Madanmohana, Radha Govinda and Radha Gopinath.
Mother Uttara who had seen Krishna directly was present at that time. When she saw the beautiful form of Radha Madanmohana, she explained that the Supreme Lord Sri Krishna’s feet are most perfectly revealed in this Deity. When she saw the beautiful form of Radha Govinda, she explained that the chest and the flute of the Lord are most perfectly revealed in this Deity. And when she saw the divine form of Sri Radha Gopinath, she explained that the beautiful smiling face of Sri Krishna is most perfectly revealed in this Deity. Thus, these were the most important deities of Vraja.
“For a long, long time Madanmohana performed His Lila of being un-manifested in this world. When the dear and intimate associate of Sri Chaitanya Mahaprabhu, Sri Advaita Acharya, descended in this world, he traveled to many holy places. When he lived in Vrindavan, he was staying on the banks of Yamuna under a tree that is today called Advaita Vat. There Sri Madanmohana, who is also known among Gaudiya Vaishnavas as Madan Gopal, revealed Himself to Sri Advaita Acharya. Before leaving Vrindavan, Sri Advaita Acharya, with great love, entrusted the worship of Madan Gopal to one very pure hearted Brahman in Mathura of the name Purushottam Chaube. This great devotee, who was completely free from all material inclinations, worshipped Madan Gopal in the intimacy of his own child.

Later Sanatana Goswami came to Vrindavan, on the order of Lord Chaitanya. He lived as a simple beggar in the forest of Vrindavan. Every day he would do Madhukari – go house to house and beg a little prasad. In Vrindavan, the staple food is roti, so he would take one roti from each house. When he would be visiting these people, he would often be invited inside to lead the kirtan and share with them the transcendental teachings of Sri Chaitanya Mahaprabhu.
Once when he was begging in the town of Mathura, he noticed something very peculiar. Sriman Purushottam Chaube invited him inside his house and said, “I will give you nice prasad Sanatana, let me just take it from the altar of the Deity.” Right before the eyes of Sanatana Goswami, Purushottam Chaube began to chastise the Deity just like his own child, “Why are you not finishing the food I am giving you?” He even picked up a stick and threatened to punish the Deity of Krishna. When Sanatana saw this, being the author of Hari Bhakti Vilas, which is the most authoritative book describing the proper process of Deity worship, he told the Purushottam Chaube, “The Deity of Krishna is non-different from Krishna Himself. He is the Supreme Personality of Godhead, the Absolute Truth, and the cause of all causes. He must be approached with great reverence and devotion. Not that you treat Him like your own child.” Purushottam Chaube being very humble apologized and said, “I am sorry. Now by your great mercy I have understood the proper process of worshipping the Deity.”
That night that beautiful form of Madanmohana appeared to Sri Sanatana Goswami. Madanmohana told him, “My name is Madanmohana, and many years ago I was installed by the great grandson of Krishna, Vajranabh. But over the period of thousands and thousands of years, I have ultimately been given to the care of this great brahmana, Purushottam Chaube. He is a pure devotee and worships me in the vatsalya-rasa. He considers me, in his pure love, to be his own child. But now that you have trained him in a very formal process of archana, I am not very satisfied. So very soon this brahmana will come and he will give this transcendental form of mine to you, as dakshina. You should worship me with great care and great love as your life and soul.”
In this way Madanmohana came under the loving care of Sanatana Goswami. But how did the deity of Srimati Radharani appear? Radhanath Swami answers:
“The devotees understand that Srimati Radharani is the empress of the heart of Govinda, Gopinath, and Madan Mohan. Therefore, the Goswamis would worship Srimati Radharani, the supreme object of all their veneration, within the heart of the Deity. In this way, they worshiped Radha Govinda, Radha Madan Mohan and Radha Gopinath. The son of king Prataprudra in Jagannath Puri, Purushottam Jana, felt that if the common people could visually see Srimati Radharani, they would be very pleased. He very much wanted that Govinda Dev and Madanmohana be worshiped along with Srimati Radharani. Therefore, he sent two beautiful deities of Srimati Radhika to Vrindavan with many devotees. When this entourage of devotees arrived in Vrindavan with the Deities, all the Vrajavasis were most joyful. There was a grand festival to welcome them.

Then the pujari of the Madanmohana Deity had a dream. In that dream Srimati Radharani appeared to him and explained, “The person who sent these deities did not know, but one of the deities is me, Sri Radhikarani, and the larger Deity   is Lalita Sakhi. Lalita Sakhi should be installed to the right of Sri Madanmohana, and the Deity of Myself, Sri Radhika, should be installed to the left”. This pujari had such a pure heart that everyone had complete faith in him. He revealed this dream to the vrajvasis and all the Goswamis, and they all accepted the wish of Srimati Radharani. A grand installation took place at the temple of Sri Sri Radha Madanmohana and the deities were installed according to their desires.”

Tuesday, 27 March 2018

रसिया रास बिहारी प्रेमलीला


एक समय की बात है, जब किशोरी जी को यह पता चला कि कृष्ण पूरे गोकुल में माखन चोर कहलाता है तो उन्हें बहुत बुरा लगा उन्होंने कृष्ण को चोरी छोड़ देने का बहुत आग्रह किया। पर जब ठाकुर अपनी माँ की नहीं सुनते तो अपनी प्रियतमा की कहा से सुनते। उन्होंने माखन चोरी की अपनी लीला को जारी रखा। एक दिन राधा रानी ठाकुर को सबक सिखाने के लिए उनसे रूठ गयी। अनेक दिन बीत गए पर वो कृष्ण से मिलने नहीं आई। जब कृष्णा उन्हें मनाने गया तो वहां भी उन्होंने बात करने से इनकार कर दिया। तो अपनी राधा को मनाने के लिए इस लीलाधर को एक लीला सूझी। ब्रज में लील्या गोदने वाली स्त्री को लालिहारण कहा जाता है। तो कृष्ण घूंघट ओढ़ कर एक लालिहारण का भेष बनाकर बरसाने की गलियों में पुकार करते हुए घूमने लगे। जब वो बरसाने, राधा रानी की ऊंची अटरिया के नीचे आये तो आवाज़ देने लगे।
मै दूर गाँव से आई हूँ, देख तुम्हारी ऊंची अटारी,
दीदार की मैं प्यासी, दर्शन दो वृषभानु दुलारी।
हाथ जोड़ विनंती करूँ, अर्ज मान लो हमारी,
आपकी गलिन गुहार करूँ, लील्या गुदवा लो प्यारी।।
जब किशोरी जी ने यह आवाज सुनी तो तुरंत विशाखा सखी को भेजा और उस लालिहारण को बुलाने के लिए कहा। घूंघट में अपने मुँह को छिपाते हुए कृष्ण किशोरी जी के सामने पहुंचे और उनका हाथ पकड़ कर बोले कि कहो सुकमारी तुम्हारे हाथ पे किसका नाम लिखूं। तो किशोरी जी ने उत्तर दिया कि केवल हाथ पर नहीं मुझे तो पूरे श्री अंग पर लील्या गुदवाना है और क्या लिखवाना है, किशोरी जी बता रही हैं।
माथे पे मदन मोहन, पलकों पे पीताम्बर धारी
नासिका पे नटवर, कपोलों पे कृष्ण मुरारी
अधरों पे अच्युत, गर्दन पे गोवर्धन धारी
कानो में केशव, भृकटी पे चार भुजा धारी
छाती पे छलिया, और कमर पे कन्हैया
जंघाओं पे जनार्दन, उदर पे ऊखल बंधैया
गुदाओं पर ग्वाल, नाभि पे नाग नथैया
बाहों पे लिख बनवारी, हथेली पे हलधर के भैया
नखों पे लिख नारायण, पैरों पे जग पालनहारी
चरणों में चोर चित का, मन में मोर मुकट धारी
नैनो में तू गोद दे, नंदनंदन की सूरत प्यारी और
रोम रोम पे लिख दे मेरे, रसिया रास बिहारी
जब ठाकुर जी ने सुना कि राधा अपने रोम रोम पर मेरा नाम लिखवाना चाहती है, तो ख़ुशी से बौरा गए प्रभू उन्हें अपनी सुध न रही, वो भूल गए कि वो एक लालिहारण के वेश में बरसाने के महल में राधा के सामने ही बैठे हैं। वो खड़े होकर जोर जोर से नाचने लगे। उनके इस व्यवहार से किशोरी जी को बड़ा आश्चर्य हुआ की इस लालिहारण को क्या हो गया। और तभी उनका घूंघट गिर गया और ललिता सखी को उनकी सांवरी सूरत का दर्शन हो गया और वो जोर से बोल उठी कि अरे….. ये तो बांके बिहारी ही है। अपने प्रेम के इज़हार पर किशोरी जी बहुत लज्जित हो गयी और अब उनके पास कन्हैया को क्षमा करने के आलावा कोई रास्ता न था। ठाकुरजी भी किशोरी का अपने प्रति अपार प्रेम जानकर गदगद् और भाव विभोर हो गए।

Sunday, 25 March 2018

Badhai Ho...




Happy Shri Ram Navami...

माता सिद्धिदात्री रूप की पूजा

Navartri Ke Navami Din Mata Siddhidatri Roop Ki Pooja

नवरात्री के नवमी दिन माता सिद्धिदात्री रूप की पूजा

नवरात्री की नवमी दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा विधि
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि |
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ||

सिद्धिदात्री स्वरूप

नवरात्र-पूजन के नौवें दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। नवमी के दिन सभी सिद्धियों की प्राप्ति होती है। सिद्धियां हासिल करने के उद्देश्य से जो साधक भगवती सिद्धिदात्री की पूजा कर रहे हैं उन्हें नवमी के दिन इनका पूजन अवश्य करना चाहिए।
सिद्धि और मोक्ष देने वाली दुर्गा को सिद्धिदात्री कहा जाता है। नवरात्र के नौवें दिन जीवन में यश बल और धन की प्राप्ति हेतु इनकी पूजा की जाती है। तथा नवरात्रों का की नौ रात्रियों का समापन होता है। माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति सिद्धिदात्री हैं, इन रूपों में अंतिम रूप है देवी सिद्धिदात्री का होता है। देवी सिद्धिदात्री का रूप अत्यंत सौम्य है, देवी की चार भुजाएं हैं दायीं भुजा में माता ने चक्र और गदा धारण किया है, मां बांयी भुजा में शंख और कमल का फूल है। प्रसन्न होने पर माँ सिद्धिदात्री सम्पूर्ण जगत की रिद्धि सिद्धि अपने भक्तों को प्रदान करती हैं।

सिद्धियां

मां दुर्गा की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री है। वे सिद्धिदात्री, सिंह वाहिनी, चतुर्भुजा तथा प्रसन्नवदना हैं। मार्कंडेय पुराण में अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व एवं वशित्व- ये आठ सिद्धियां बतलाई गई हैं। इन सभी सिद्धियों को देने वाली सिद्धिदात्री मां हैं। मां के दिव्य स्वरूप का ध्यान हमें अज्ञान, तमस, असंतोष आदि से निकालकर स्वाध्याय, उद्यम, उत्साह, क‌र्त्तव्यनिष्ठा की ओर ले जाता है और नैतिक व चारित्रिक रूप से सबल बनाता है। हमारी तृष्णाओं व वासनाओं को नियंत्रित करके हमारी अंतरात्मा को दिव्य पवित्रता से परिपूर्ण करते हुए हमें स्वयं पर विजय प्राप्त करने की शक्ति देता है। देवी पुराण के अनुसार, भगवान शिव ने इन्हीं शक्तिस्वरूपा देवी जी की उपासना करके सभी सिद्धियां प्राप्त की थीं, जिसके प्रभाव से शिव जी का स्वरूप अ‌र्द्धनारीश्वर का हो गया था।
इसके अलावा ब्रह्ववैवर्त पुराण में अनेक सिद्धियों का वर्णन है जैसे 1. सर्वकामावसायिता 2. सर्वज्ञत्व 3. दूरश्रवण 4. परकायप्रवेशन 5. वाक्‌सिद्धि 6. कल्पवृक्षत्व 7. सृष्टि 8. संहारकरणसामर्थ्य 9. अमरत्व 10 सर्वन्यायकत्व. कुल मिलाकर 18 प्रकार की सिद्धियों का हमारे शास्त्रों में वर्णन मिलता है। यह देवी इन सभी सिद्धियों की स्वामिनी हैं। इनकी पूजा से भक्तों को ये सिद्धियां प्राप्त होती हैं।

पूजा विधि

सिद्धियां हासिल करने के उद्देश्य से जो साधक भगवती सिद्धिदात्री की पूजा कर रहे हैं। उन्हें नवमी के दिन निर्वाण चक्र का भेदन करना चाहिए। दुर्गा पूजा में इस तिथि को विशेष हवन किया जाता है। हवन से पूर्व सभी देवी दवाताओं एवं माता की पूजा कर लेनी चाहिए। हवन करते वक्त सभी देवी दवताओं के नाम से हवि यानी अहुति देनी चाहिए. बाद में माता के नाम से अहुति देनी चाहिए। दुर्गा सप्तशती के सभी श्लोक मंत्र रूप हैं अत:सप्तशती के सभी श्लोक के साथ आहुति दी जा सकती है। देवी के बीज मंत्र “ऊँ ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे नमो नम:” से कम से कम 108 बार अहुति दें।

ध्यान

वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्।
कमलस्थितां चतुर्भुजा सिद्धीदात्री यशस्वनीम्॥
स्वर्णावर्णा निर्वाणचक्रस्थितां नवम् दुर्गा त्रिनेत्राम्।
शख, चक्र, गदा, पदम, धरां सिद्धीदात्री भजेम्॥
पटाम्बर, परिधानां मृदुहास्या नानालंकार भूषिताम्।
मंजीर, हार, केयूर, किंकिणि रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥
प्रफुल्ल वदना पल्लवाधरां कातं कपोला पीनपयोधराम्।
कमनीयां लावण्यां श्रीणकटि निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

स्तोत्र पाठ

कंचनाभा शखचक्रगदापद्मधरा मुकुटोज्वलो।
स्मेरमुखी शिवपत्नी सिद्धिदात्री नमोअस्तुते॥
पटाम्बर परिधानां नानालंकारं भूषिता।
नलिस्थितां नलनार्क्षी सिद्धीदात्री नमोअस्तुते॥
परमानंदमयी देवी परब्रह्म परमात्मा।
परमशक्ति, परमभक्ति, सिद्धिदात्री नमोअस्तुते॥
विश्वकर्ती, विश्वभती, विश्वहर्ती, विश्वप्रीता।
विश्व वार्चिता विश्वातीता सिद्धिदात्री नमोअस्तुते॥
भुक्तिमुक्तिकारिणी भक्तकष्टनिवारिणी।
भव सागर तारिणी सिद्धिदात्री नमोअस्तुते॥
धर्मार्थकाम प्रदायिनी महामोह विनाशिनी।
मोक्षदायिनी सिद्धीदायिनी सिद्धिदात्री नमोअस्तुते॥

कवच

ओंकारपातु शीर्षो मां ऐं बीजं मां हृदयो।
हीं बीजं सदापातु नभो, गुहो च पादयो॥
ललाट कर्णो श्रीं बीजपातु क्लीं बीजं मां नेत्र घ्राणो।
कपोल चिबुको हसौ पातु जगत्प्रसूत्यै मां सर्व वदनो॥

माता महागौरी रूप की पूजा

Navratri Ke Ashtami Din Mata Mahagauri Roop Ki Pooja

नवरात्री के अष्टम दिन माता महागौरी रूप की पूजा

नवरात्री की अष्टमी दिन माता महागौरी की पूजा विधि
श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बर धरा शुचि:। महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा॥
श्री दुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी हैं। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है, इसलिए ये महागौरी कहलाती हैं। नवरात्रि के अष्टम दिन इनका पूजन किया जाता है। इनकी उपासना से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। माँ महागौरी की आराधना से किसी प्रकार के रूप और मनोवांछित फल प्राप्त किया जा सकता है। उजले वस्त्र धारण किये हुए महादेव को आनंद देवे वाली शुद्धता मूर्ती देवी महागौरी मंगलदायिनी हों।
दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है। इस गौरता की उपमा शंख, चन्द्र और कून्द के फूल की गयी है। इनकी आयु आठ वर्ष बतायी गयी है। इनका दाहिना ऊपरी हाथ में अभय मुद्रा में और निचले दाहिने हाथ में त्रिशूल है। बांये ऊपर वाले हाथ में डमरू और बांया नीचे वाला हाथ वर की शान्त मुद्रा में है। पार्वती रूप में इन्होंने भगवान शिव को पाने के लिए कठोर तपस्या की थी। इन्होंने प्रतिज्ञा की थी कि व्रियेअहं वरदं शम्भुं नान्यं देवं महेश्वरात्। गोस्वामी तुलसीदास के अनुसार इन्होंने शिव के वरण के लिए कठोर तपस्या का संकल्प लिया था जिससे इनका शरीर काला पड़ गया था। इनकी तपस्या से प्रसन्न होकर जब शिव जी ने इनके शरीर को पवित्र गंगाजल से मलकर धोया तब वह विद्युत के समान अत्यन्त कांतिमान गौर हो गया, तभी से इनका नाम गौरी पड़ा।
देवी दुर्गा के नौ रूपों में महागौरी आठवीं शक्ति स्वरूपा हैं। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है। महागौरी आदी शक्ति हैं इनके तेज से संपूर्ण विश्व प्रकाश-मान होता है इनकी शक्ति अमोघ फलदायिनी हैम माँ महागौरी की अराधना से भक्तों को सभी कष्ट दूर हो जाते हैं तथा देवी का भक्त जीवन में पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी बनता है
दुर्गा सप्तशती में शुभ निशुम्भ से पराजित होकर गंगा के तट पर जिस देवी की प्रार्थना देवतागण कर रहे थे वह महागौरी हैं। देवी गौरी के अंश से ही कौशिकी का जन्म हुआ जिसने शुम्भ निशुम्भ के प्रकोप से देवताओं को मुक्त कराया। यह देवी गौरी शिव की पत्नी हैं यही शिवा और शाम्भवी के नाम से भी पूजित होती हैं।

महागौरी स्वरूप

महागौरी की चार भुजाएं हैं उनकी दायीं भुजा अभय मुद्रा में हैं और नीचे वाली भुजा में त्रिशूल शोभता है। बायीं भुजा में डमरू डम डम बज रही है और नीचे वाली भुजा से देवी गौरी भक्तों की प्रार्थना सुनकर वरदान देती हैं। जो स्त्री इस देवी की पूजा भक्ति भाव सहित करती हैं उनके सुहाग की रक्षा देवी स्वयं करती हैं। कुंवारी लड़की मां की पूजा करती हैं तो उसे योग्य पति प्राप्त होता है। पुरूष जो देवी गौरी की पूजा करते हैं उनका जीवन सुखमय रहता है देवी उनके पापों को जला देती हैं और शुद्ध अंत:करण देती हैं। मां अपने भक्तों को अक्षय आनंद और तेज प्रदान करती हैं।

दुर्गा पूजा अष्टमी महागौरी की पूजा विधि

नवरात्रे के दसों दिन कुवारी कन्या भोजन कराने का विधान है परंतु अष्टमी के दिन का विशेष महत्व है। इस दिन महिलाएं अपने सुहाग के लिए देवी मां को चुनरी भेंट करती हैं। देवी गौरी की पूजा का विधान भी पूर्ववत है अर्थात जिस प्रकार सप्तमी तिथि तक आपने मां की पूजा की है उसी प्रकार अष्टमी के दिन भी देवी की पंचोपचार सहित पूजा करें। देवी का ध्यान करने के लिए दोनों हाथ जोड़कर इस मंत्र का उच्चारण करें
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि। सेव्यामाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी॥
महागौरी रूप में देवी करूणामयी, स्नेहमयी, शांत और मृदुल दिखती हैं।देवी के इस रूप की प्रार्थना करते हुए देव और ऋषिगण कहते हैं
सर्वमंगल मंग्ल्ये, शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोस्तुते

महागौरी के मंत्र

1- श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।।
2- या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

माता महागौरी की ध्यान

वन्दे वांछित कामार्थे चन्द्रार्घकृत शेखराम्।
सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा महागौरी यशस्वनीम्॥
पूर्णन्दु निभां गौरी सोमचक्रस्थितां अष्टमं महागौरी त्रिनेत्राम्।
वराभीतिकरां त्रिशूल डमरूधरां महागौरी भजेम्॥
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालंकार भूषिताम्।
मंजीर, हार, केयूर किंकिणी रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥
प्रफुल्ल वंदना पल्ल्वाधरां कातं कपोलां त्रैलोक्य मोहनम्।
कमनीया लावण्यां मृणांल चंदनगंधलिप्ताम्॥

महागौरी की स्तोत्र पाठ

सर्वसंकट हंत्री त्वंहि धन ऐश्वर्य प्रदायनीम्।
ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाभ्यहम्॥
सुख शान्तिदात्री धन धान्य प्रदीयनीम्।
डमरूवाद्य प्रिया अद्या महागौरी प्रणमाभ्यहम्॥
त्रैलोक्यमंगल त्वंहि तापत्रय हारिणीम्।
वददं चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्॥

माता महागौरी की कवच

ओंकारः पातु शीर्षो मां, हीं बीजं मां, हृदयो।
क्लीं बीजं सदापातु नभो गृहो च पादयो॥
ललाटं कर्णो हुं बीजं पातु महागौरी मां नेत्रं घ्राणो।
कपोत चिबुको फट् पातु स्वाहा मा सर्ववदनो॥

महागौरी कथा

देवी पार्वती रूप में इन्होंने भगवान शिव को पति-रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की थी, एक बार भगवान भोलेनाथ ने पार्वती जी को देखकर कुछ कह देते हैं। जिससे देवी के मन का आहत होता है और पार्वती जी तपस्या में लीन हो जाती हैं। इस प्रकार वषों तक कठोर तपस्या करने पर जब पार्वती नहीं आती तो पार्वती को खोजते हुए भगवान शिव उनके पास पहुँचते हैं वहां पहुंचे तो वहां पार्वती को देखकर आश्चर्य चकित रह जाते हैं। पार्वती जी का रंग अत्यंत ओजपूर्ण होता है, उनकी छटा चांदनी के सामन श्वेत और कुन्द के फूल के समान धवल दिखाई पड़ती है, उनके वस्त्र और आभूषण से प्रसन्न होकर देवी उमा को गौर वर्ण का वरदान देते हैं।
एक कथा अनुसार भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए देवी ने कठोर तपस्या की थी जिससे इनका शरीर काला पड़ जाता है। देवी की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान इन्हें स्वीकार करते हैं और शिव जी इनके शरीर को गंगा-जल से धोते हैं तब देवी विद्युत के समान अत्यंत कांतिमान गौर वर्ण की हो जाती हैं तथा तभी से इनका नाम गौरी पड़ा। महागौरी जी से संबंधित एक अन्य कथा भी प्रचलित है इसके जिसके अनुसार, एक सिंह काफी भूखा था, वह भोजन की तलाश में वहां पहुंचा जहां देवी उमा तपस्या कर रही होती हैं। देवी को देखकर सिंह की भूख बढ़ गयी परंतु वह देवी के तपस्या से उठने का इंतजार करते हुए वहीं बैठ गया। इस इंतजार में वह काफी कमज़ोर हो गया। देवी जब तप से उठी तो सिंह की दशा देखकर उन्हें उस पर बहुत दया आती है, और माँ उसे अपना सवारी बना लेती हैं क्योंकि एक प्रकार से उसने भी तपस्या की थी। इसलिए देवी गौरी का वाहन बैल और सिंह दोनों ही हैं।
देवी महागौरी का ध्यान, स्रोत पाठ और कवच का पाठ करने से ‘सोमचक्र’ जाग्रत होता है जिससे संकट से मुक्ति मिलती है और धन, सम्पत्ति और श्री की वृध्दि होती है। इनका वाहन वृषभ है।
महागौरी : माता का रंग पूर्णत: गौर अर्थात् गौरा है इसीलिए वे महागौरी कहलाती है।